एक्टर, गायक और अस्त्रोलोजर – शेखर नेगी

एक्टर, गायक और अस्त्रोलोजर – शेखर नेगी

एक्टर, गायक और अस्त्रोलोजर – शेखर नेगी

एक्टर, गायक और अस्त्रोलोजर – शेखर नेगी

Mumbai :- वैसे तोह दुनिया में कई अजीबो गरीब शक्शियते जनम लेती है. और परम इश्वर का आशीर्वाद होता है जो यह सब घटित होते रहता है.. अगर आप परम इश्वर पर भरोसा करते हो तोह. इश्वर की लीला क्या होती है बताने की जरुरत नहीं…और इसे ही एक इन्सान से हम आपको मिलाने जा रहे है जो यह दावा करते है की भगवान भोले बाबा उनसे बात करते है…..हा भक्ति से सब कुछ संभव है. अगर आपके भक्ति में वो ताकत है तोह भगवान भी भक्ति के आगे नतमस्तक हो जाते है….और वो इन्सान है शेखर नेगी..

शेखर नेगी एक भजन गायक है. एक उभरते हुए बॉलीवुड के एक्टर है और साथ ही एक अस्त्रोलोजार भी है….उनके मुलाकात के कुछ अंश….

प्रश्न: शेखरजी सबसे पहले जानना चाहेगे आपकी शुरुवात लेखन में हो , या गायन में हो या एअस्त्रोलोजी में हो कैसी रही.?

सबसे पहले तोह मै कहना चाहूँगा “ हर हर महादेव”.

जो कुछ ज्ञान मुझको मिला है. वो सब मुझे भोले बाबा के कृपा से मिला है. ना मैंने कुछ शास्त्रीय तरीके से संस्कृत सिखा है. नहीं कई ऊँचे तोर पर मैंने कही शिक्षा हासिल की है.. मेरी रूचि शिक्षा में नहीं थी. कुछ ऊँचे दर्जे का काम करने की ललक हमेशा रही है..तोह यह जीवन में हमेशा शिक्षा हासिल करता रहा पर किसी मित्र के पिताजी द्वारा एक परमर्श मुझे मिला की मै भोले बाबा की भक्ति करू…मै भोले बाबा की भक्ति करता गया…रूचि बड़ती गई..तब मुझे भोले बाबा के स्तुति में शब्द अपने आप सुझाने लगे और मै लेखन करता चला गया..

मैंने बाबा के नाम भजन लिखता चला गया और यह सिलसिला आज भी जारी है.. यह भोलेबाबा की ही कृपा है की मेरे अन्दर वो लेखन और भजन लिखने की प्रेरणा देते रहते है..

मैंने कम उम्र में ही बारा जोतिर्लिगो के दर्शन किये और चार धाम , साथ ही अमरनाथ के भी दर्शन किये…ये सौभाग्य मुझे हासिल हुआ… यह सब करते करते मेरी रूचि भक्ति और भजन में और बदती चली गए और मै लिखता चला गया..भोले बाबा का सबसे प्रिय भजन है “ शिव तांडव “मैंने शिव तांडव पर गीत लिखा और यह सब करते करते अस्त्रोलोजी की तरफ मेरी रूचि जागने लगी..और मैंने काफी रिसर्च की किताबे पढ़ी जादा से जादा ज्ञान हासिल करने की कोशीश की और काफी हद तक अस्त्रोलोजी को जानने लगा…

तो आज भजन गाता हु . बॉलीवुड सिंगिंग करता हु.,एक सफल बिज़नस मेन हु..और एक अस्त्रोलोजार भी हु…मेरा यह सब करने के पीछे एक ही मकसद है. लोगो को सही रास्ता दिखाना…आज के तारिक में लोगो को सही ज्ञान नहीं मिल पा रहा है..तोह मैंने यह उपक्रम शुरू करने की कोशिश कर रहा हु.जिसमे गुरु शिष्य परंपरा में ज्ञान मिल जाये. और समाज का और जरुरत मंद लोगो को एक सही सलाह और रह मिलती रहे…

मैंने भजन में लिंगास्ताकम, शिवस्तुति, ब्रम्हास्ताकम, शिवअस्ताकम, कालभैरवअस्ताकम का गायन करता हु .इससे काफी शांति मिलती है. और अस्त्रोलोजी में भी उपाय के तोर पर काफी सारी पूजाए बताई गयी है…और सात्विक पूजा से काफी समाधान और तकलीफ का अंत होता है…जीवन में लड़ने की क्षमता आ जाती है..

प्रश्न: आपकी सिंगिंग की साधना कहा से शुरू किया..?

मै मंदिर में शिव तांडव भजन गाता हु. तोह मुझे किसीने बोला की तुम गा सकते हो औरलोगो भी येहि कहते थे..पर मेरे अपने ऊपर भरोसा नहीं था. भक्ति में लीन हो कर भजन जरना अलग है और रिकॉर्डिंग रूम में गाना गाना अलग है. पर मैंने हिम्मत की और संगीतकार सुरेन्द्र बच्चन जी के संगीत निर्देशन में पहली बार गाना रिकॉर्ड किया.. और कमाल की बात है की गाना एक टेक में ही पूरा रिकॉर्ड हो गया..इस बात से मेरे अन्दर आत्मविश्वास जागृत हो गया…और आज मै “बाबा की बूटी” “ “बम बम भोले”, टाइटल के भजन गा चूका हु..जो काफी लोकप्रिय हो रही है..

मेरी एक फिल्म भी आ रही है..फिल्म का नाम है “ “बोल बड़ी बम बम”, इस के तीनो गीत मैंने खुद गाये है. इस फिल्म की कहानी भी मैंने खुद लिखी है जिसमे मेरे जीवन अनुभवो को मैंने कहानी में पिरोये है और कुछ काल्पनिक मसाला है है फिल्म भोलेबाबा और इंसानी आकांशाओ पर प्रकाश डालनेवाली फिल्म है  और फिल्म गानों की शूटिंग भी पूरी हो चुकी है. और बाकि फिल्म की शूटिंग भी जोरो पर है..फिल्म थिएटर में २०१९ तक आने की संभावना है.

प्रश्न: आपकी भविष्य शास्त्र पर रूचि कैसी जागृत हो गई?

मैंने भोले बाबा से हमेशा बात करते रहता हु और बाबा से हमेशा कुछ ना कुछ माँगते रहता हु..की लोगो के लिए, लोगो के कल्याण के लिए मुझे कुछ ऐसा ज्ञान दो की मैं लोगो की हमेशा सेवा करता रहू..और बाबा ने मेरे अन्दर भविष्य शास्त्र के प्रति रूचि जागृत की. और मैं इस शास्त्र को अध्यन करता रहा और बाबा के आशीर्वाद से उनके प्रेरणा से इस शास्त्र में आज में पूरी तरह पारंगत हो चूका हु.

प्रश्न: आप भोले बाबा के परम भक्त है. परम भक्ति में लीन रहते है. आप के भोले बाबा के दृष्टांत के बारे में जानना चाहेंगे..

मै विरार वसई स्थित तुगारेश्वर मंदिर में हमेशा पूजा करता हु अगर मैं अपने और भोले बाबा के सम्बन्ध में बताऊ तो आज की तारिक में कोई भी यकींन नहीं करेगा लेकिन में बताना चाहूँगा, बाबा की भक्ति करने से क्या क्या नहीं मिलता.. मैं पूजा के दौरान ऐसे ऐसे अनुभव अनुभूत करता हु जिसका वर्णन संभव नहीं. जिसको बाद में सोचता हु तोह अचरज में पड़ जाता हु. मेरे हाथो की लकीरे बदल गई. मै खुद बहोत तकलीफ में था. उस तकलीफों से निजाद पाया.. सही तरीको से पूजा करने से तकलीफ़ो का प्रभाव कम हो जाता है.

देखो भगवांन  ने  साडी चीज़े इंसानों को दे रखी है. और अपनी भक्ति के शक्ति अगर इन्सान जगा दे तोह भगवान को भी अपने शब्दों से अपने मन की करा सकता है.

आज की तारिक में सही राह दिखने वाला कोई नहीं है सब लोग दुकान लगा कर बैठे है..और में भोलेबाबा आज्ञा लोगो को तकलीफों को भविष्य शास्त्र, सात्विक पूजा से दूर करना चाहता हु.

आने वाले समय में हम इस कार्य को बड़े पैमाने के साथ करने हेतु टेलीविज़न के माध्यम से ,डाक्यूमेंट्री के माध्यम से और इन्टरनेट यू-ट्यूब के माध्यम से लोगो से जुड़ने का प्रयास करेंगे और लोगो को हमारे ज्ञान से लाभ बाटने का आनद भी प्राप्त करेंगे.

 

 

TheWestern Volunteer

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account