पालघर पुलिस को मिली फोरेंसिक लैब वैन

पालघर पुलिस को मिली फोरेंसिक लैब वैन

पालघर पुलिस को मिली फोरेंसिक लैब वैन

आशु विश्वकर्मा / वसई :- जिले में किसी भी बड़ी व गंभीर घटना के बाद घटनास्थल पर सबूत पहचान के लिए मार्किंग करना महत्वपूर्ण होता है, लेकिन अब इस तकनीकी कार्य को वैज्ञानिक तरीके से किये जाने की आवश्यकता है| इसके लिए जिले में विशेष रूप से फोरेंसिक लैब वैन (मोबाइल फॉरेंसिक इन्वेस्टिगेशन वैन) तैयार किया गया है| जिले में उपलब्ध वैन प्रत्येक गंभीर घटनास्थल पर पहुंचकर अपना कार्य करेगी| उक्त कार्य से छानबीन की दिशा में प्रगती आएगी| और आरोपियों को जल्द से जल्द उसकी सजा मिलेगी|

बतादें कि किसी भी घटना की छानबीन, दिशा और आरोपियों को सजा मिलने के लिए घटनास्थल पर मिले सबूत अपना महत्वपूर्ण स्थान रखते है| मामले में पुलिस घटनास्थल के सबूत व भाग का मार्किंग करती है क्योंकि उसको वैज्ञानिक जानकारी नहीं होती है, जिसके कारण सबूत कलेक्शन में काफी त्रुटियां भी रह जाती हैं| उसका फायदा आरोपी को मिलता साथ ही जांच व घटना को प्रभावित करता है| इसलिए घटना के तत्काल बाद घटनास्थल का वैज्ञानिक परीक्षण होने से जांच में बड़ी उपलब्धी मिल सकती है| पालघर पुलिस अधीक्षक की ओर से जिले में घूमता-फिरता मोबाइल फॉरेंसिक इन्वेस्टिगेशन वैन आवश्यकता पर जोर दिया गया| इसके बाद जिले में पुलिस अत्याधुनिक व्यवस्था से सुसज्जित एक फोरेंसिक लैब वैन पालघर पुलिस दल में शामिल किया गया है| इस वैन में एक फॉरेन्सिक एक्सपर्ट और हस्ताक्षर विशेषज्ञ (फिंगरप्रिंट एक्सपर्ट) आदि उपस्थित होगा| इसके लिए प्रत्येक पुलिस स्टेशन के कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। पुलिस विभाग में घूमता-फिरता फोरेंसिक परीक्षण वैन शामिल होते ही जिले के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी गयी|  सहायक फोरेन्सिक मेडिसिन विशेषज्ञ शीतल तंत्रिया ने कहा की हमारे द्वारा घटनास्थल से बहुत सटीक सबूत लेते हैं और उन्हें परीक्षण के लिए भेजते हैं। यह बेहतर जांच होगी और आरोपी के लिए साक्ष्य महत्वपूर्ण साबित होंगे।

TheWestern Volunteer

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account