उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी के मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा गया है- कि शिवसेना महत्वपूर्ण मुद्दों पर विपक्षी पार्टियों की शक्ति देखना चाहती है.

Mumbai : शिवसेना ने सोमवार को विपक्षी दलों पर तंज कसते हुए कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती कीमतों में इजाफे के खिलाफ बुलाया गया राष्ट्रव्यापी बंद लंबी नींद से हाल में जागे लोगों का अचानक उठाया गया कदम नहीं लगाना चाहिए. पार्टी ने कहा कि वह लंबे समय से विपक्षियों दलों का बोझ अपने कंधों पर उठाती आ रही है और अब यह देखना चाहती है कि ये संगठन जनता से जुड़े मुद्दों पर कहां खड़े हैं.

शिवसेना बीजेपी की सहयोगी पार्टी है लेकिन वह अक्सर उसकी आलोचना करती है. पार्टी ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में कहा, ‘अब तक हम विपक्षी नेताओं का बोझ अपने कंधों पर उठाते आ रहे हैं और अब हम विपक्ष की ताकत देखना चाहते हैं. जब विपक्षी पार्टियां प्रभावशाली ढंग से अपना काम कर रही हों तो लोगों के हितों की रक्षा होती है.’

संपादकीय में कहा गया है, ‘पाटिल को पता होना चाहिए कि बीजेपी का नेता होना आम आदमी होने से अधिक आसान है. पेट्रोलियम उत्पादों की कीमत में इजाफे का सीधा असर खाद्यान्न, दूध, अंडे, सार्वजनिक परिवहन जैसे अन्य जरूरी चीजों के मूल्य पर पड़ता है.’

शिवसेना ने बीजेपी नीत सरकार पर चुनावी वायदे पूरे नहीं करने पर हमला किया. पार्टी ने कहा, ‘वर्ष 2014 के आम चुनाव के दौरान नरेंद्र मोदी ने दो करोड़ नौकरियों का सृजन करने का वायदा किया था. इसके विपरीत, मोदी शासन में हर साल 20 लाख नौकरियां घट गईं.’ पार्टी ने कहा, ‘मोदी सरकार जिस तरह से जीडीपी वृद्धि का प्रचार कर रही है, उसी तरह से उसे पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों में इजाफे का प्रचार भी करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.