वसई विरार में सत्तापक्ष और बीजेपी के बीच गरमाई पानी की राजनीति

अचोले में १४७ विकासकामो का भूमिपूजन करने आये विधायक क्षितिज ठाकुर ने बीजेपी के पानी परिषद कार्यक्रम को पानी की राजनीति का लगाया आरोप और पानी पर किस ने किया है काम उस का दिया मंच पर आ कर बहस करने का खुला चेलेंज

विपक्ष लगा रहा है आरोप सत्तापक्ष सिर्फ सभी को पानी देने की कर रही है घोषणा लेकिन महासभा में नही ला रही है प्रस्ताव

नालासोपारा ।(कमर बेग):इंसान को जीने के लिए जिन बुनियादी चीजो की जरूरत है उनमें शुद्ध हवा और शुद्ध पानी और बिजली इन बुनियादी जरूरतों को सभी नागरिकों को उपलब्ध करवा पाने में सरकारे वा स्थानीय प्रसाशन विफल होता दिखाई देता है । भारी प्रदूषण से जंहा शुद्ध हवा मिलना मुश्किल हो गया है तो वंही शुद्ध पानी भी हर किसी नगरिक को उपलब्ध नही हो पा रहा है ।

बिजली की अगर बात करे तो कई ऐसे गाँव और शहरों में ऐसी बस्तियों भी हैं जंहा बिजली भी बराबर उपलब्ध नही है । फिलहाल हम बात कर रहे हैं महाराष्ट्र के एक विकास की ओर बढ़ते शहर वसई विरार की जंहा लगातार आबादी बढ़ रही है लेकिन शहर को आने वाले ५० वर्षो तक का इंफ्रास्ट्रक्चर बनाया ही नही गया है । आज भी शहर नैसर्गिक नालो से पानी निकासी का भरोसे ही है यंहा पर सीवरेज ड्रेनेज भी नही हैं जिस से की भारी बरसात में शहर के पानी को खाड़ी में छोड़ा जा सके । इन सब से भी अहम बुनियादी ज़रूरत पानी के लिए तो लोग तरस रहे हैं ।

आज भी आधे से भी ज़्यादा आबादी टैंकर और बॉटलिंग के पानी पर ही निर्भर हैं । हालांकि पानी को लेकर कुछ सालों से काफी काम हुआ है वसई विरार को पानी सप्लाई करने वाले मुख्य डैम सूर्या के दूसरे और तीसरे चरण के लिए काफी बाधाएं थी जिन में फॉरेस्ट की जगह से पाइप लाइन डालना और पेड़ो को काटना भी था जिस की लंबी लड़ाई नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एन, जी, टी) में लड़ी गयी जंहा आखिर सफलता भी मिली । जंहा से कई शर्तो पर मंजूरी दे दी गयी थी । जिस के बाद वसई विरार शहर में पानी की पाइप लाइन डालने का काम सुरु कर दिया गया था ।

विपक्ष लगातार सत्तापक्ष पर आरोप लगाता आ रहा है कि सत्तापक्ष पानी की सिर्फ घोषणा ही कर रहा है लेकिन नागरिको को पानी उपलब्ध नही करवा रहा है । उनका आरोप यह भी है कि महासभा में अभी तक प्रस्ताव लाया ही नही गया है जब कि सत्तापक्ष के विधायक और महापौर नागरिको को सिर्फ आश्वासन दे कर घोषणा बाजी ही कर रहे हैं । फिलहाल इस मामले में बीजेपी के सांसद राजेन्द्र गावित और पालकमंत्री विष्णु सावरा ने नालासोपारा ईस्ट में पानी परिषद के कार्यक्रम मे राज्य की बीजेपी सरकार द्वारा दिए गए पैसे की बात कही वा सत्तापक्ष पर नागरिको को पानी उपलब्ध करवा पाने में उनकी विफलता और राजनीति की बात कही है ।

नालासोपारा विधानसभा के विधायक शितिज ठाकुर ने जो अचोले में ड प्रभाग में ८ करोड़ के बजट से १४७ विकासकामो के भूमिपूजन करने आये थे उन्होंने विकासकामो की जितनी चर्चा नही की उतनी चर्चा बीजेपी के पानी परिषद की कर दी उन्होंने मंच पर से कहा कि उन्होंने जितना काम किया है वह उन्हें पूरा मुह जबानी याद है किन किन विभागों से लगातार पत्र व्यवहार और मुलाकाते की गई है वह सब बता देंगे कितनी चप्पलें घिसने के बाद ही सूर्या के दूसरे और तीसरे चरण का काम हुआ है उन्होंने कहा कि हम हर नागरिको को पानी उपलब्ध करवाने के अपने वचन पर आज भी कायम हैं ।

उन्होंने मंच पर से ही मोबाइल पर सोशल मीडिया में आये एक फोटो को दिखाया और कहा कि जो आज वसई विरार को पानी देने के लिए पानी परिषद कर रहे हैं उन्ही के संसद वसई तालुका को पानी नही देने के लिए उपोषण पर बैठे थे उन्होंने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस टैंकर लॉबी की बात यह कर रहे हैं उनके मुखिया खुद राजन नाइक हैं । इसी के साथ उन्होंने बीजेपी के सभी नेताओं को खुला चेलेंज देते हुए कहा कि वह किसी भी मंच पर आ कर पानी के विषय पर बहस करें जिस के लिए वह तैयार हैं ।

मनपा सूत्रों के अनुसार सूर्या प्रकल्प के दूसरे और तीसरे चरण की अड़चन खत्म हो गयी है जंहा से अतिरिक्त १२० एमएलडी पानी शहर को दिया जाएगा फिलहाल १२० एमएलडी पानी शहर को दिया जा रहा है पानी की पाइप लाइन बिछाने का काम भी लगतार किया जा रहा है लेकिन सभी वैध और अवैध इमारतों को पानी देने की सिर्फ बाते ही कि जा रही हैं महासभा में सत्तापक्ष ने अब तक कोई भी प्रस्ताव नही नही लाया है अब देखना यह होगा कि सत्तापक्ष और विपक्ष के इस आरोप प्रत्यारोपण पर आम नागरिकों को पानी कब तक मिल पायेगा