वसई विरार मनपा की मुहीम जारी : एमआरटीपी और बोगस सीसी के तहत मामला दर्ज

वसई विरार मनपा की मुहीम जारी :  एमआरटीपी और बोगस सीसी के तहत मामला दर्ज

वसई विरार मनपा की मुहीम जारी : एमआरटीपी और बोगस सीसी के तहत मामला दर्ज

नालासोपारा : वसई विरार शहर महानगर पालिका के मनपा प्रभाग “डी” की ओर से बोगस सीसी और धोखाधड़ी को लेकर बिल्डर पर एमआरटीपी के तहत तुलिंज पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने धारा 420,465,467,471,474,34,120 बी,कलम 3,4 और एमआरटीपी एक्ट 52,53,54 के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले की छानबीन पुलिस कर रही है। ज्ञात हो कि वसई विरार शहर महानगर पालिका के मनपा आयुक्त सतीश लोखंडे, अतिरिक्त कमिश्नर संजय हेरवाडे,रमेश मानले,उपायुक्त अजीज शेख और डॉ. किशोर गवस के मार्गदर्शन में मनपा क्षेत्र के नामचीन बिल्डरों के अवैध निर्माणों को लेकर अपना शिकंजा कसना शुरू किया हुआ है। मनपा द्वारा इसके तहत बिल्डरों पर बोगस सीसी और एमआरटीपी के तहत मामला दर्ज करने का प्रभाग के सहायक आयुक्तों को सख्त आदेश दिए गए है। इसके तहत मनपा प्रभागों द्वारा क्षेत्र के नामचीन बिल्डरों के किये गए अवैध निर्माणों को लेकर एमआरटीपी और बोगस सीसी के तहत मामला पुलिस स्टेशन में दर्ज कराया गया है। लंबी चुप्पी के बाद मनपा द्वारा एक बार पुन: नामचीन बिल्डरों के अवैध निर्माणों को लेकर लगाम कसना शुरू किया है। इसी के तहत मनपा प्रभाग “डी” की प्रभारी सहायक आयुक्त संध्या पाटिल द्वारा क्षेत्र के बिल्डरों पर कड़ी कार्रवाई की गयी है। नालासोपारा ( पूर्व ) स्थित प्रभाग समिति “डी ” अंतर्गत मौजे,सर्वे नं 143,हिस्सा नं.1ए,1बी ( सीताराम भवन ) में मेसर्स ओमसाई इंटरप्राइजेज व प्रो.जगदीश.एम. म्हात्रे आदि द्वारा बोगस डाक्यूमेंट के आधार पर बोगस मनपा अनुमति दिखाकर अवैध निर्माण किया गया है। यही नहीं रूम बिक्री कर इनके द्वारा बड़े पैमाने पर नागरिकों को बेवकूफ बनाने का कार्य किया गया है। उक्त बिल्डिंग को परमिशन सिर्फ बेसमेंट जी प्लस 7 दिया गया था। जिसमे से 33 फ्लैट व 31 दुकान की परमिशन प्राप्त हुआ था,लेकिन उक्त बिल्डर द्वारा 48 फ्लैट व 103 दुकान का निर्माण कार्य किया गया। मनपा द्वारा उक्त मामले को गंभीरता से लेते हुए बड़ी बारकी से कागजी जांच के बाद प्रभाग की प्रभारी सहायक आयुक्त सांध्य पाटिल द्वारा बिल्डर जगदीश.एम. म्हात्रे के खिलाफ तुलिंज पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराया।शिकायत को पुलिस ने गंभीरता से लिया और जांच के बाद बिल्डर म्हात्रे के ऊपर एमआरटीपी और बोगस सीसी के तहत गुरुवार को मामला दर्ज किया है। गौरतलब हो कि सहायक आयुक्त पाटिल द्वारा अपने कार्यकाल में अबतक दर्जनों से ज्यादा अवैध बिल्डरो पर एमआरटीपी के तहत मामला दर्ज कराई है। पाटिल की इस तेवर से प्रभाग के नामचीन बिल्डरों में एक फिर से हड़कंप सा मच गया है।

laksh solution

leave a comment

Create Account



Log In Your Account