भाजपा छोड़ वनगा का परिवार शिवसेना में शामिल

भाजपा छोड़ वनगा का परिवार शिवसेना में शामिल

भाजपा छोड़ वनगा का परिवार शिवसेना में शामिल

भाजपा छोड़ वनगा का परिवार शिवसेना में शामिल,   राजनीतिक गलियारे में चर्चा का माहौल गर्म 
पालघर :  भाजपा के पूर्व सांसद चिंतामणी वनगा के निधन के ४ माह बाद ही भाजपा को छोड़ वनगा परिवार शिवसेना में शामिल हो गया है| वनगा के परिवार को भाजपा छोड़ने से जिले के राजनीतिक गलियारे में चर्चा का माहौल गर्म हो गया है| वहीं हाल ही में होने वाले लोकसभा उपचुनाव पर भी इसका असर होने की बात कही जा रही है| वही चिंतामणी वनगा के परिवार को भाजपा की ओर से उचित मान-सम्मान दिया गया है, जबकि वनगा परिवार द्वारा भाजपा पर नजरअंदाज करने का गंभीर आरोप लगाया गया है|
ज्ञात हो कि पालघर लोकसभा सीट से भाजपा के सांसद चिंतामणी वनगा थे| वनगा की जनवरी २०१८ में दिल्ली के राममनोहर लोहिया अस्पताल में उपचार के दौरान निधन हो गया था| इस घटना से भाजपा ने एक कर्तव्यनिष्ठ व कद्दावर नेता खो दिया| सांसद वनगा के निधन के बाद वनगा परिवार काफी दिनों तक भाजपा की राह निहारते रहे, लेकिन पार्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी| पिता की निधन के बाद एकाएक पार्टी का यह रुख देख बेटा प्रफ्फुल वनगा काफी नाराज हुए| भाजपा से असंतुष्ट व नाराज बेटा और बहु जयश्री वनगा दोनों ही शिवसेना में शामिल हुए है| शिवसेना प्रमुख से  वनगा परिवार ने मुलाकात किया | पालघर लोकसभा सीट के लिए लोकसभा की उपचुनाव को लेकर काफी नाराजगी व्यक्त की गयी| वनगा के बेटे ने कहा कि पूर्व सांसद की ओर से गत ३५ वर्षों तक दिन-रात मेहनत कर भाजपा को आगे बढ़ाने का प्रयास किया गया था| भाजपा ने उनके परिवार के साथ अन्याय किया है| वनगा परिवार के सदस्यों की ओर से भाजपा छोड़ने की चर्चा आते ही मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और प्रदेशाध्यक्ष राव साहेब दानवे की ओर से समय मांगा गया था, लेकिन परिवार की ओर और अधिक समय नहीं दिया| प्रफ्फुल वनगा ने कहा मैं भाजपा छोड़ रहा हूँ|  हमारा शिवसेना से पहले का संबंध है| बालासाहेब ठाकरे और उद्धव ठाकरे की ओर से हमेशा सहयोग दिया गया है| जयश्री चिंतामणी वनगा ने कहा सांसद चिंतामणी वनगा के निधन के बाद से ही पूरा परिवार भाजपा को छोड़ दिया है| शिवसेना प्रमुख ने कहा कि पालघर शिवसेना की ओर से गत दिनों पहले लोकसभा और इसके बाद आगे आने वाले विधान सभा की तैयारी के लिए कहा जाता था| वनगा परिवार को शिवसेना में शामिल होने से राजनीतिक क्षेत्र में एक नया मोड़ आया गया है| और शिवसेना का काफी बल मिला है| फ़िलहाल उन्होंने कोई उम्मीद नहीं व्यक्त की है, अब हम सभी एक साथ चर्चा करेंगे, मैं पालघर शिव सैनिक से बात करूंगा और जल्द ही फैसला करूँगा। शिवसेना प्रमुख ने कहा कि हमने विधान सभा चुनाव को लेकर कोई गठबंधन नहीं किया है| हम उन सीटों से लड़ रहे हैं, जिनमें शिवसेना चुने गए हैं।उन्होंने कहा कि गोंदिया, पालघर स्थित लोकसभा क्षेत्र के लिए होने वाले उपचुनाव नहीं लड़ने निश्चय किया है|
पूर्व सांसद चिंतामणी वनगा के निधन के बाद वनगा परिवार को पार्टी की ओर से पूरा सम्मान और उचित स्थान दिया जा रहा है| – भाजपा के जिला महासचिव राजन नाईक
शिवसेना में शामिल होने का मतलब भाजपा की ओर से पूर्व सांसद के निधन के बाद वनगा परिवार का कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा था| होने वाले लोकसभा क्षेत्र के उपचुनाव पर भी इसका असर अवश्य पड़ेगा | – नालासोपारा शहर महासचिव मनोज बरोट

laksh solution

leave a comment

Create Account



Log In Your Account