वसई को ईंट-कंक्रीटों का जंगल बनाने के बाद मनपा का शिरगांव में कृत्रिम जंगल के लिए साढ़े ३ करोड़ की मंजूरी

वसई को ईंट-कंक्रीटों का जंगल बनाने के बाद मनपा का शिरगांव में कृत्रिम जंगल के लिए साढ़े ३ करोड़ की मंजूरी

वसई को ईंट-कंक्रीटों का जंगल बनाने के बाद मनपा का शिरगांव में कृत्रिम जंगल के लिए साढ़े ३ करोड़ की मंजूरी

वसई : वसई को ईंट -कंक्रीटों का जंगल बनाने के बाद मनपा द्वारा अब शिरगांव में कृत्रिम जंगल के लिए मनपा महासभा में साढ़े ३ करोड़ रुपये की मजूरी दी गयी| आने वाले बरसात में शिरगांव स्थित ५४ हेक्टर की भूमि पर जंगल विकसित किया जा रहा है| वसई-विरार शहर महानगर पालिका की शहरों में वन विभाग की ओर कृत्रिम जंगल तैयार करने का निर्णय लिया गया है| विरार में शिरगांव , गास, कोपरी नारिंगी, चंदनसार, कनेर, विरार, नालासोपारा और नालासोपारा स्थित बिलालपाड़ा, धानीव , पेल्हार आदि स्थानों पर २०० हेक्टर की भूमि पर जंगल का विकास किया जायेगा| कृत्रिम जंगल के प्रथम भाग में शिरगांव , गास कोपरी और नारिंगी स्थित क्षेत्रों में ५० हेक्टर भूमि पर ५४ हजार पौधे लगाए जायेंगे| इस तरह ५ वर्षों में कुल २०० हेक्टर भूमि पर जंगल विकसित किया जायेगा|

 

आने वाले बरसात के मौसम में शिरगांव स्थित कक्ष क्रमांक ११२९, ११३०ल , ११३१ के बीच कुल ६० हेक्टर क्षेत्र  के साथं पर ५४ हेक्टर भूमि पर पौधे लगाकर जंगल तैयार किया जायेगा| इस जंगल भूमि पर प्रति हेक्टर ११११ की तरह कुल ९० हजार वृक्ष लगाकर जंगल तैयार किया जायेगा| दूसरे भाग में शिरगांव के कुंभारपाड़ा स्थित ४९.५३ हेक्टर, खंदरपाड़ा १३.९६ हेक्टर, कक्ष क्रमांक ११३१ पर ५.२५ हेक्टर के इन डाउन ग्रेड वनभूमि पर २०१८ से ३ वर्ष के लिए वनीकरण किया जायेगा| इसके लिए ३ करोड़ ६२ लाख खर्च होने का अनुमान लगाया गया है| उक्त निधि की मंजूरी के लिए शुक्रवार को मनपा महासभा में मंजूर के लिए लाया गया था| कृत्रिम जंगल पर लगने वाली निधि किसी भी प्रकार की चर्चा किये बगैर ही उक्त राशि की पास कर दिया गया| इसके पास होते ही मनपा में कृत्रिम जंगल का रास्ता अब साफ हो गया है| कृत्रिम जंगल तैयार कर उक्त स्थान पर पर्यटन स्थल, फारेस्ट पार्क, पक्षियों का अभ्यरण्य, हिरन पार्क और औषधी उद्यान आदि विकसित किया जायेगा|

laksh solution

leave a comment

Create Account



Log In Your Account