अपहरण के बाद हत्या मामले की गुत्थी सुलझी पिता की प्रेमिका ही निकली बेटी अंजलि की कातिल

अपहरण के बाद हत्या मामले की गुत्थी सुलझी पिता की प्रेमिका ही निकली बेटी अंजलि की कातिल

अपहरण के बाद हत्या मामले की गुत्थी सुलझी पिता की प्रेमिका ही निकली बेटी अंजलि की कातिल

पुलिस का कांग्रेस ने किया सम्मान

आशु विश्वकर्मा / नालासोपारा : जिले के नालासोपारा क्षेत्र  में तुलींज पुलिस स्टेशन अंतर्गत विजय नगर इलाके से शनिवार को 5 साल की बच्ची का अपहरण कर उसकी हत्या करने का मामला पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने वारदात का खुलासा करते हुए मृत बच्ची के पिता की प्रेमिका को विरार से गिरफ्तार किया है। मामले में यह सामने आई है कि मृत अंजलि के कातिल को पकड़ने के लिए पालघर पुलिस की छह टीमें गठित की गई थी और पुलिस नालासोपारा से नवसारी तक छान बीन कर रही थी। हत्यारिन प्रेमिका मृतका के घर से सिर्फ 1 किलोमीटर की दूरी पर इत्मीनान से बैठी हुई थी। वहीं मामले में पुलिस को मिली कामयाबी के लिए शहर के कांग्रेस पार्टी के सैकड़ो लोगों का सम्मान किया है।

मामले में मिली जानकारी के अनुसार नालासोपारा पूर्व के विजय नगर स्थित साई अपर्णा अपार्टमेंट में मृतका अंजली संतोष सरोज (5) अपने पिता और दादा दादी के साथ रहती थी। अंजली की माँ दो साल से अपने मूल गांव उतरप्रदेश में अपने छोटे बेटे विनय (2) के साथ रहती है। पिता का क्षेत्र में सब्जी का व्यवसाय है। शनिवार की रात 8 बजे अंजली घर के बाहर बच्चों के साथ खेल रही थी। उसी वक्त एक अज्ञात महिला आई और चॉकलेट का लालच देकर अंजली का अपहरण कर लिया। जब काफी देर तक अंजली घर नहीं आई तो परिजनों ने आसपास क्षेत्र में उसकी तलाश शुरू की, लेकिन कहीं भी उसका पता नहीं चला, जिसके बाद देर रात तुलींज पुलिस स्टेशन में उसके अपहरण का मामला दर्ज करवाई गई। अपहरणकर्ता महिला बच्ची को विजयनगर से नागिनदास पाडा तक पैदल ही ले गयी। यह पूरी वारदात वहां लगे सीसीटीवी में कैद हुई है। पुलिस ने धारा 363 के तहत मामला दर्ज कर आगे की छानबीन करने में जुट गई।

शादी से इनकार करने पर युवती ने बेटी की हत्या कर लिया बदला : विरार पूर्व स्थित कारगिल नगर में रहने वाली अनीता बाघेला नामक युवती के साथ छह साल पहले अंजली के पिता संतोष की दोस्ती हुई थी। बाद में दोनों में प्रेम संबंध हो गया। पिछले सालों में दोनों के बीच शारारिक सम्बंध हुए जिसमे वह दो बार गर्भवती हुई, लेकिन संतोष ने उसका आब्रशन करा दिया था। जब युवती ने शादी की बात कही तो संतोष मुकरने लगा, इस बीच संतोष के घर में विवाद शुरू हो गया और संतोष ने अपनी पत्नी को उतरप्रदेश अपने मूल गांव भेज दिया। हालांकि इन दिनों संतोष ने युवती से दूरी बना ली थी। दूसरी ओर शादी न होने से नाराज युवती ने संतोष से बदला लेने की साजिश रची और  इसी साजिश के तहत उसने अंजली का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी।

[the_ad id=”1081″]

बेहोश करने के लिए खिलाई अबॉर्शन की गोलियां : आरोपी युवती बदले की आग में जलते हुए अंजली का अपहरण किया और उसे विरार ले गई। विरार से फिर बोरीवली गई और वहाँ से गुजरात जाने वाली ट्रेन में सवार हो गयी। ट्रेन में सफर के दौरान उसने अंजली को आबर्षन की गोलियां खिला दी ताकि वह बेहोश हो जाय और उसका विरोध न कर सके, बेहोशी के हाल में वह अंजली को लेकर रविवार की सुबह नवसारी रेलवे स्टेशन पर उतरी और प्लेटफार्म नंबर एक स्थित महिला शौचालय में ले जाकर अंजली का गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद वह दोपहर के समय ट्रेन पकड़ कर वापस विरार अपने घर आ गयी।

पिता ने किया पुलिस को गुमराह : वारदात में चौकाने वाली बात यह है कि जिस मासूम की हत्या हुई उसके पिता ने ही आरोपी युवती अनीता बाघेला (24) को पहचानने से इंकार कर दिया था, किन्तु मृतक बच्ची के घर के आसपास से पुलिस को सीसीटीवी फुटेज मिला था, जिसमे अंजली को ले जाते हुए एक महिला दिखाई दे रही है। वह महिला कोई और नही बल्कि अंजली के पिता की प्रेमिका थी। पिता संतोष को डर था कि कहीं आरोपी महिला की पहचान कर लेने पर उसके प्रेम प्रसंग की पोल न खुल जाए।

कॉल रिकॉर्ड के बदौलत सुलझी गुत्थी : अंजली के अपहरण के बाद पालघर एस पी मंजुनाथ सिंगे ने अपहरणकर्ता युवती को पकड़ने के लिए छह टीमों का गठन किया था। ये टीमें रेलवे स्टेशनों के लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही थी, इस दौरान जाँच टीम ने अंजली के पिता के मोबाइल की कॉल डिटेल की छानबीन किया तो पता चला कि उसके नंबर पर एक युवती के नाराजगी भरे कई मेसेज आये है। शक के आधार पर जब पुलिस ने उस युवती के मोबाइल के कॉल रिकॉर्ड जांचा तो पुलिस का शक यकीन में बदल गया। मंगलवार की देर रात पुलिस की टीम ने युवती के लोकेशन ट्रेस कर उसे मनवेलपाडा से गिरफ्तार किया। पुलिस द्वारा कड़ी पूछताछ किए जाने पर युवती ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

पुलिस का किया गया सम्मान : मृत बच्ची के आरोपी को जल्द से जल्द पकड़ने के लिए लोगों ने दो बार पुलिस स्टेशन का घेराव कर जमकर नारेबाजी की थी। यहां तक कि शहर के महापौर भी अपने शिष्ट मंडल के साथ पुलिस स्टेशन पहुंचे थे और आरोपियों को जल्द से पकड़ने की मांग की थी। पुलिस ने 36 घन्टे में अंजलि के कातिल आरोपी युवती को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस की इस कामयाबी पर शहर के कांग्रेस पार्टी के सैकड़ो लोगों ने बुधवार की सुबह पुलिस टीम को पुष्पगुच्छ देकर  उनका सम्मान किया।

पुलिस ने मामले में बरती लापरवाही : दादा : वहीं मामले में मृतका के दादा ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगते हुए कहा कि पुलिस ने मामले में लापरवाही बरती है। आरोपी युवती को अंजलि का अपहरण कर नवसारी ले जाने में लगभग 12 घंटे लगे होंगे। तब तक पुलिस क्या कर रही थी , पुलिस अगर मामले में जल्द संज्ञान लिया होता तो आज हमारी पोती जिंदा होती।

TheWestern Volunteer

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account